Message source: IKSL

State: Bihar
Topic: Wheat Production
Subject: Information on sowing of wheat by seed drill (सीड ड्रील द्वारा गेहूं की बुआई)
Message: किसान भाइयो मशीन द्वारा बुआई करने के लिये भूमि में नमीं होना चाहिए। गेहूं की बुआई के लिये बैलों व ट्रेक्टर दोनों से चलने वाली मशीन का उपयोग किया जा सकता है। बैलों द्वारा चालित मशीन एक बार में 5 कुण्ड व ट्रेक्टर से चलने वाली 9-11 कुण्ड बनाती है। मशीन द्वारा बुआई करने से बीज एक ही गहराई पर गिरता है, और समान रूप से गिरता है। साथ ही बीज की प्रयोग की जाने वाली मात्रा बोने वाले की इच्छा के अनुसार नियन्त्रित की जा सकती है। बुआई की मशीन में उर्वरक को भी समान रूप से सही स्थान पर भूमि में बीज के साथ बुआई करते हैं, ऐसी मशीन को फर्टी कम सीड ड्रील कहते हैं
State: UP (West)
Topic: Animal Husbandry- Care and Management
Subject: Information on protection of animals from exo-parasites (पशुओं की बाह्य परजीवियों जैसे जू किलनी एवं चिचडी से सुरक्षा)
Message: किसान भाईयों इस मौसम में पशुओं के शरीर पर जू किलनी एवं चिचडी जैसे अनेक बाह्य परजीवियों का प्रकोप हो जाता है ,जो पशु के शरीर से खून चूस कर उसे कमजोर कर देते है,जिससे पशु का दूध उत्पादन कम हो जाता है। पशुओं को बाह्य परजीवियों से बचाने के लिए ब्यूटाक्स अथवा जूटाक्स दवा की 2 मि0ली0 मात्रा को एक ली0 पानी में मिलाकर अपने पशु के शरीर पर लगाये। ध्यान रहे कि पशु के शरीर पर घाव अथवा फोडा-फुन्सी नहीं होनी चाहिये साथ ही पशु दवा को चाटने न पाये। दवा को पशु के शरीर पर लगाने के बाद पशु को बाहर खुले स्थान पर बाधना चाहिये। दवा लगाने के 2 घण्टे के बाद पशु को नहलाये। किसान भाइयों आप इन सब उपायों को अपनाकर अपने पशु को बाह्य परजीवियों से मुक्त कर उसे स्वस्थ रख सकते है और पशु से अधिक दूध उत्पादन ले सकते है।
State: Haryana
Topic: Animal Husbandry-Disease
Subject: Information on mastitis disease in milch animals (दुधारू पशुओं में थनेला रोग के बारे में जानकारी)
Message: किसान भाइयों थनेला रोग दूधारू पशुओं की लेवटी में होने वाली एक छुत की बीमारी है। इसके जीवाण्ु गन्दे फर्श और दूध निकालने वालों के गन्दें हाथ से पशु के थनों में प्रवेश करते हैं। इस रोग की वहज से थन व लवेटी सुज जाती है। इस रोग में दूध फटा-फटा से हो जाता है और दूध में ख्ून व पीप नजर आती है। अगर थन बन्द हो जाए तो थन में कोइ नुकीली चीज डालकर थन ख्ोलने का प्रयास ना करे इससे रोग बढ़ सकता है। इस रोग से बचने के लिए दूध निकालने वाले के हाथ और थनों को दूध निकालने से पहले व बाद में बैंगनी दवाइ से धोकर साफ कपड़े से सुखा लें। पशुशाला को साफ रखे और रोग के लक्ष्ण नजर आने पर नजदीक के पशु चिकित्सक से सम्पर्क करके उचित इलाज करवाएं।
State: Rajasthan
Topic: Mustard- Varieties
Subject: Information about “Aashirwaad” variety of mustard (सरसों की आशि॔वाद किस्म से जुडी जानकारी)
Message: किसान भाईयो राम राम किसान भाईयो सरसों की आशि॔वाद किस्म देरी से बुवाई के लिए उपयूक्त है। इसकी बुवाई हम 25 नवम्बर तक कर सकते है। इसका पौधा 130 से 140 सेमी ऊंचा, पत्तियां तीखी नोक युक्त, तना हरा तथा 35 से 40 दिन मे फ़ूल आते है। इसकी फ़ली लगभग 3.5 से 4 सेमी लम्बी, 10 से 12 बीज प्रति फ़ली पाए जाते है। इस किस्म मे तेल की मात्रा 39 से 42 प्रतिशत पाई जाती है। यह किस्म आडी गिरने तथा फ़ली छिटकने से प्रतिरोधी व पाले से मध्यम प्रतिरोधी है। यह 120 से 130 दिन मे पककर 13 से 15 क्वि. प्रति हैक्टेयर उपज दे देती है।
State: Tamil Nadu
Topic: Cotton: Nutrient Management
Subject: Information about Magnesium deficiency in Cotton field
Message: Dear Farmers!!! We are often noticed reddening of older leaves to younger leaves in cotton filed particularly during boll formation and maturation stage. But the vine of such leaves remain green in colour. This is due to Magnesium deficiency and is very common in the crop raised in the soil having low organic matter content. Better to apply Magnesium sulphate @ 10kg/acre as a basal dose prior to take cultivation. If the symptoms are noticed in the grown up cops, go for foliar spray with magnesium sulphate @ 20g/litre of water along with Urea @ 10g/litre at fortnight interval until to get rid of the problem.
State: Tamil Nadu
Topic: Turmeric-Plant Protection
Subject: Information about symptoms and management of leaf spot disease in Turmeric
Message: Symptoms and management of leaf spot disease in Turmeric Black colour lesions with spores were seen in the leaves of both young and grown up plants. The disease was easily spread out by flown up spores in the winds and hence affected leaves are detached and destroyed followed by two times spray with fungicide called Mancozeb @ 600g /acre in order to provide disease outbreak. The same fungus are responsible for fruit rot disease of Chilli and thus intercropping of chilli in Turmeric field, Turmeric after Chilli and Chilli after Turmeric cropping systems are not advisable.
State: Tamil Nadu
Topic: Weather based Agro-advisory
Subject: Information related weather and occurrence of disease in paddy which is likely to occur in such weather.
Message: Weather based agro advisories for Trichy and surrounding parts of Tamil Nadu Dear Farmers!!! As per IMD’s prediction, in Trichy and surrounding parts of Tamil Nadu, the sky will be little cloudy and there is no chance for rainfall. The maximum and minimum temperature is around 31 and 20 degree Celsius respectively. RH is around 87 to 82%. Soil application of gypsum, is recommended @ 200 kg/acre for Thaladi paddy to correct sulphur deficiency. Bacterial leaf blight and bacterial leaf streak are being noticed in the Samba paddy due to prevailing weather condition. To control this, spray Streptomycin 18 g + Copper oxy-chloride 500 g mixture/acre or Copper hydroxide at 500 g/acre in 200 litre of water.
State: Tamil Nadu
Topic: Market prize of Maize
Subject: Information about market prize of maize
Message: Dear Farmers!!! As per agmarket.net.in; maize fetches different market price in Coimbatore zone. In Annur market @ Rs. 1075/quintal, Karamadai market @ Rs. 1050/quintal, Palladam market @ Rs. 1150/quintal, Sulur market @ Rs. 1100/quintal, Udumalpet market @ Rs. 1120/quintal, Rasipuram market @ Rs. 1200/quintal and in Salem market @ Rs. 1300/quintal.